नेपाल की नदियों से कई गांवों में घुसा पानी , बाढ़ का खतरा

कुशीनगर : कुशीनगर जिले के सीमावर्ती नेपाल के जल अधिग्रहण क्षेत्र में तीन दिनों से ज्यादे बारिश होने के चलते वाल्मीकी गंडक बैराज पर शुक्रवार की रात दो लाख 86 हजार क्यूसेक पानी पहुंच गया। यह पानी बैराज से बड़ी गंडक नदी में डिस्चार्ज किए जाने से नदी उग्र रुप धारण करते हुए खड्डा रेता क्षेत्र के मरिचहवा, बसंतपुर, शिवपुर समेत अन्य टोलों में पहुंच गया है। 

बता दे कि शिवपुर पुलिस चौकी परिसर समेत लोगों के घरो में घूटने तक पानी लग गया है। घर में पानी लगने से लोगों का परिवार मचान पर शरण लिया हुआ है। मरिचहवा व शिवपुर के ग्राम प्रधान ने लोगों की समस्या को देखते हुवे इसकी सूचना तहसील प्रशासन को दी साथ ही लोगों के लिए नाव की व्यवस्था कराने के साथ खाने-पीने की सामग्री उपलब्ध कराने की मांग की है। खड्डा एसडीएम कोमल यादव का कहना है कि मरिचहवा, बसंतपुर, शिवपुर समेत उनके अन्य टोलों में बाढ़ का पानी घुसने की सूचना है।

शनिवार की सुबह गंडक बैराज पर नदी का डिस्चार्ज घटकर दो लाख 60 हजार क्यूसेक पर आ गया। जिसकी जानकारी मिलने पर वहा के लोगो ने राहत की सांस ली है। 

Flood Water

महराजगंज में भी घुसा पानीFlood Water

महराजगंज : भारी बारिश से महराजगंज में बहने वाली पहाड़ी नदी भौरहिया व चन्दन उफना गई हैं। बता दे कि ज्यादा बारिश होने के चलते नेपाल अपनी नदियो का पानी छोङना शुरु कर दिया है, लक्ष्मीपुर खुर्द में नदी के पानी से तबाही मच रही है। लक्ष्मीपुर खुर्द गांव के साथ ही पुलिस चौकी में बाढ़ का पानी घुस गया। सभी रास्ते जलमग्न हो गए हैं। सैकड़ों एकड़ खेत मे धान की फसल पानी में डूब गया है।

दो दिन से मानसूनी बारिश से नेपाल के पहाड़ों से भारी मात्रा में पानी नदी में डिस्चार्ज होने से लक्ष्मीपुर खुर्द समेत अन्य सीमावर्ती गांव शनिवार को बाढ़ के कहर से जूझने लगे हैं।

Leave a Comment