कुशीनगर की बेटी आकांक्षा सिंह ने बढ़ाया जिले का नाम, न्यूरो सर्जन बनकर करना चाहती है गरीबो की सेवा

कुशीनगर : 16 अक्टूबर यानि शुक्रवार को आए नीट मेडिकल प्रवेश परीक्षा 2020 के रिजल्ट में कुशीनगर जिले की आकांक्षा सिंह ने देशभर में दूसरा स्थान प्राप्त किया है।

बता दे कि आकांक्षा सिंह परीक्षा में 720 में से 720 नंबर हासिल किए है। वह जिले के कसया नगर पालिका परिषद, अंबेडकर नगर (भरौली) निवासी राजेंद्र सिंह की पुत्री है।

आकांक्षा ने बताया कि जब वह हाईस्कूल कर रहीं थीं तभी से उन्होंने नीट की तैयारी शुरू कर दी थी।

वह बताती हैं कि नीट की कोचिंग के लिए वह रोज 70 किलोमीटर की यात्रा कर गोरखपुर जाती थी। बाद में 11 वीं 12वी दिल्ली में पढ़ाई की और फिर वहीं से नीट की कोचिंग की।

आकांक्षा के पिता भारतीय वायुसेना के रिटायर्ड सार्जेंट हैं। उनकी मां रुचि सिंह गांव पर ही प्राथमिक स्‍कूल की टीचर हैं। बेटी की इस कामयाबी से वे दोनों बेहद खुश हैं। शुक्रवार को रिजल्‍ट आने के बाद उन्‍होंने अपने पूरे गांव में मिठाई बांटकर इस खुशी का इजहार किया। 

NEET Topper Akanksha singh kushinagar

पढ़ाई को समय के दायरे में कभी नहीं बांधने वाली आकांक्षा ने दो साल तक मोबाइल अपने पास नहीं रखा। सोशल मीडिया से आज भी दूर हैं। यही नहीं दिल्ली में रहकर पढ़ाई की और त्योहार में मां से भी मिलने नहीं आईं। उनकी इसी तपस्या ने एक ऐसा मुकाम हासिल कराया जिस पर परिवार और रिश्तेदार ही नहीं, बल्कि पूरे देश को उनपर नाज है। 

मीडिया से बातचीत में आकांक्षा ने बताया है कि वह न्यूरो सर्जन बनकर पूर्वांचल के पिछड़े इलाकों में सेवा करना चाहती हैं।

Leave a Comment